गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Thursday, 5 April 2012

राजमाता कैकेयी


आज भी रामराज्य की स्थापना में
राजमाता कौशल्या ही होंगी
किंतु राजकाज कैकेयी का
होगा राम का अवतरण?
लक्ष्मण, भरतत्रुघ्न भाई
सीता, माण्डवी, उर्मिला और श्रुतिकीर्ति
विदेह राज की बेटियां
राजा दशरथ होंगे अयोध्यापति?

विश्वामित्र संग वशिष्ठ और ऋषिमुनि
आहूत करेंगे अग्नि और स्वाहा को
होंगे प्रबल सु बन में
आज भी कैकेयी वर मांगेंगी
लोककल्याण में रामराज का

राम को बनवास, सीता का हरण
जटायु का मरण, सुग्रीव की मित्रता
बाली की हत्या, समुद्र बंधन
लंका दहन, विभीषण की सेवा
रावण का वध, अयोध्या आगमन
राम का राज कैकेयी का संवाद?

कैकेयी का त्याग, राम का राज
अयोध्या की बात वही दिन वही रात
नये युग का सूत्रपात
जग ने राजमाता कैकेयी के
त्याग को ये कैसे भुला दिया?
उर्मिला का त्याग, लक्ष्मण का परित्याग
हनुमान की भक्ति, कैकेयी का वर
अयोध्या में आज भी मुख पृष्ठ पर है
लेकिन राजमाता कैकेयी ने
फिर से कहां, किसके घर जनम लिया?

तुम दाउ बनो, तभी मैं कृष्ण कहलाउंगा
तुम राम बनो, मैं लखन बन जाउंगा

तुम बन चलो, मैं पीछे चला आउंगा
यदि तुम दसशीश बने, मैं विभीषण बन जाउंगा

राजमाता कैकेयी के त्याग को समर्पित 20/02/2007

चित्र गूगल से साभार

22 comments:

  1. लेकिन राजमाता कैकेयी ने
    फिर से कहां, किसके घर जनम लिया?

    .....विचारणीय प्रश्न उठाती बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  2. तुम दाउ बनो, तभी मैं कृष्ण कहलाउंगा
    तुम राम बनो, मैं लखन बन जाउंगा

    वाह!!!!!!बहुत सुंदर रचना,अच्छी प्रस्तुति,..

    MY RECENT POST...फुहार....: दो क्षणिकाऐ,...
    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    ReplyDelete
  3. विस्तृत |
    बहुत बहुत आभार ||

    ReplyDelete
  4. एक लंबे अंतराल के बाद आपके पोस्ट पर आना हुआ। कविता बहुत अच्छी लगी । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  5. कैकेयी का त्याग, राम का राज
    अयोध्या की बात वही दिन वही रात
    नये युग का सुत्रपात
    जग ने राजमाता कैकेयी के
    त्याग को ये कैसे भूला दिया?...bahut sahi prashn

    ReplyDelete
  6. विचारणीय........................

    और अध्ययन करना होगा संभवतः.....

    आपके विचारों को दाद देती हूँ...

    ReplyDelete
  7. कैकयी का पक्ष भी सामने आना चाहिए… कैकयी के पुत्र प्रेम और राम के वन गमन ने इतिहास में उसे खलनायिका बना दिया। आज भी कोई अपनी पुत्री का नाम कैकयी नहीं रखता। …… आपका प्रश्न आज भी अनुत्तरित है।

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. अभिनव दृष्टिकोण

    ReplyDelete
  10. bhavo ke sunder abhivkti sath he app ne ram katha ke navin pahlu par prakash dala.bahut he sundar

    ReplyDelete
  11. सच है कैकयी के त्याग को किसी ने याद न रखा. बेहद गूढ़ और विचारार्थ रचना. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  12. गहरी,विचारणीय बात ..प्रासंगिक उद्गार ..

    ReplyDelete
  13. वाह!!!!!!बहुत सुंदर रचना,अच्छी प्रस्तुति........

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  14. सच है कैकेयी का त्याग कोई नहीं समझता, बहुत अच्छी प्रस्तुति, बधाई.

    ReplyDelete
  15. उदार काव्‍य दृष्टि का ही परिणाम हो सकती है ऐसी रचना, लख-लख बधाईयां जी.

    ReplyDelete
  16. तुम दाउ बनो, तभी मैं कृष्ण कहलाउंगा
    तुम राम बनो, मैं लखन बन जाउंगा

    तुम बन चलो, मैं पीछे चला आउंगा
    यदि तुम दसशीश बने, मैं विभीषण बन जाउंगा

    Wah...Vicharniy Soch liye rachna....

    ReplyDelete
  17. न जाने कैकेयी न होती तो राम,राम बन पाते भी या नहीं।

    ReplyDelete
  18. लेकिन राजमाता कैकेयी ने
    फिर से कहां, किसके घर जनम लिया?

    राजमाता कैकेयी के प्रति अलग दृष्टिकोण प्रदर्शित करती अच्छी रचनां।

    ReplyDelete
  19. पहली बार आपके ब्लॉग पर आया ... सुंदर .. ब्लॉग .. आपकी लेखेन का कायल हूँ

    ReplyDelete
  20. कैकेयी को याद तो करते ही हैं लोग जब जब राम को याद करते हैं...हाँ उस जैसा कोई बनना नहीं चाहता

    ReplyDelete
  21. तुम दाउ बनो, तभी मैं कृष्ण कहलाउंगा
    तुम राम बनो, मैं लखन बन जाउंगा

    बहुत अच्छी प्रस्तुति, बधाई.

    ReplyDelete