गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Thursday, 27 December 2012

जीवन

नव वर्ष की शुभकामना 

इस धरा पर जन्म लिया कालजयी बना?
श्रृष्टि के प्रारंभ से अवतरण या प्रकटीकरण हो
पैरों ने स्पर्श किया वसुधा को जवाब देना पड़ा?
धर्म की रक्षा या अधर्म के नाश में बने कालजयी?

प्रति पल प्रश्न पर प्रश्न शाश्वत क्या है?
जीवन है क्या, जीवन का मूल?
जन्म की सार्थकता कैसे?
क्या खो दिया, क्या पा लिया?

हम प्रति पग कैसे चले?
किसकी छांव में बैठे?
किसने हमें दुत्कार दिया?
किसका आश्रय मिला?

किसने हमारा शोषण किया?
किसका हमने शोषण कर दिया?
कब हम गिर पड़े?
किसके कंधे का सहारा लिया?

किसको बनाया हमने  सीढ़ी?
सीढ़ी बन गए किनके?
किस पड़ाव पर रुक गये?
संजोग से रखा कदम और गिर पड़े?

किन सत्कर्मों से लड़खड़ा गये कदम?
मंजिल की चाह में ही अपना ली पगडण्डी?
कहाँ से लौटना पड़ा?
कौन राह से लौट गया वापस?

छुट गया कौन बीच राह में?
क्यों किसे हमने छोड़ दिया?
ज़िन्दगी में
पड़ाव, लक्ष्य, ठहराव, शांति, तुष्टि,

कर दें परिभाषित परम और चरम कैसे?
हमने जो जिया वही सब सच?
यही सबका सच?
अंत या मोक्ष?

न इसके आगे?
न इसके पीछे?

06.07.2010
चित्र गूगल से साभार  

15 comments:

  1. शाश्‍वत प्रश्‍नों के पालने में झूलता जीवन.

    ReplyDelete
  2. यही सबका सच?
    अंत या मोक्ष?
    इन्ही सवालों में उलझा है जीवन...
    न इसके आगे?
    न इसके पीछे?
    गहन भाव... नववर्ष की बहुत-बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. अपरिभाषित सच..

    ReplyDelete
  4. हमने जो जिया वही सब सच?,,,उम्दा प्रस्तुति,,

    recent post : नववर्ष की बधाई

    ReplyDelete
  5. प्रश्न ही प्रश्न हैं -समाधान कौन दे ?
    कबीर जी भी कह गये -
    इतते सबही जात हैं (प्रश्नों का)भार लदाय-लदाय,
    उतते कोई न आवई ,जासे पूछूँ धाय !

    ReplyDelete
  6. स्वयं से प्रश्न करना अर्थात स्वयं को समझने का प्रयास करना है.
    और हर प्रश्न का संतोषजनक उत्तर मिलना संभव भी नहीं होता..जब एक प्रश्न अन्य कई प्रश्नों को जन्म दे देता है तब ऐसी ही मनोदशा होती है .खुद में उलझी सी !बहुत अच्छी भाव-अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  7. इन प्रश्नों के उत्तर ढूँढने का समय किसके पास है.. और कहाँ हैं ऐसे गुरू जो इन प्रश्नों के उत्तर दे सकें... हमने जो फसल बोई है उसकी विषैली पौध अब वृक्ष बन चुकी है... कलियुग में न अर्जुन के मन में संशय उठाता है न भगवान उसका समाधान प्रस्तुत कर पाते हैं!!

    ReplyDelete
  8. कमसे कम साल के अंत में ही सही सही और गलत का लेखा जोखा और आकलन आवश्यक है.

    आगामी नव वर्ष के लिये बहुत बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  9. बहुत मुश्किल...! जीवन-धारा के संग बहते चले जा रहे हैं, क्या खुद कभी रुख़ मोड़ पाएँगे...? लक्ष्य पर पहुँचना ही है... ऐसे या वैसे...! क्या पता, क्या खबर... :(
    बहुत सोचा... पर कुछ जवाब सिर्फ़ सवाल ही रहते हैं...!
    ~सादर !!!

    ReplyDelete
  10. प्रति पल प्रश्न पर प्रश्न शाश्वत क्या है?
    जीवन है क्या, जीवन का मूल?
    जन्म की सार्थकता कैसे?
    क्या खो दिया, क्या पा लिया?

    ये तमाम प्रश्न वर्ष की इस संध्याबेला पर खुद से करना बेहद आवश्यक हैं..
    सुंदर प्रस्तुति।।।
    नववर्ष की अग्रिम शुभकामनाएं।।।

    ReplyDelete
  11. प्रति पल प्रश्न पर प्रश्न शाश्वत क्या है?

    शाश्वत यही है हमारा होना एक दिन न होना !
    खुद के बारे में जानना यही जीवन की सार्थकता है
    मेरे लिए !

    ReplyDelete
  12. यही सबका सच?
    अंत या मोक्ष?
    बिल्‍कुल सही ...

    ReplyDelete
  13. आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी। नव वर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ। धन्यवाद सहित

    ReplyDelete
  14. नूतन वर्षाभिनंदन मंगलकामनाओं के साथ.

    ReplyDelete
  15. दिन तीन सौ पैसठ साल के,
    यों ऐसे निकल गए,
    मुट्ठी में बंद कुछ रेत-कण,
    ज्यों कहीं फिसल गए।
    कुछ आनंद, उमंग,उल्लास तो
    कुछ आकुल,विकल गए।
    दिन तीन सौ पैसठ साल के,
    यों ऐसे निकल गए।।
    शुभकामनाये और मंगलमय नववर्ष की दुआ !
    इस उम्मीद और आशा के साथ कि

    ऐसा होवे नए साल में,
    मिले न काला कहीं दाल में,
    जंगलराज ख़त्म हो जाए,
    गद्हे न घूमें शेर खाल में।

    दीप प्रज्वलित हो बुद्धि-ज्ञान का,
    प्राबल्य विनाश हो अभिमान का,
    बैठा न हो उलूक डाल-ड़ाल में,
    ऐसा होवे नए साल में।

    Wishing you all a very Happy & Prosperous New Year.

    May the year ahead be filled Good Health, Happiness and Peace !!!

    ReplyDelete