गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 21 September 2012

बंद


विक्रम ने हठ न छोड़ा
कर दिया बंद का ऐलान
वेताल ने कहा
कल तुमने किया था बंद
बिना लोगो की सहूलियत को जाने?
तुम्हें कोई मलाल नहीं?

आज मैं तुमसे पूछूं?
राजन जरा सोचो
लोगो को सच का पता लग गया?
तो तुम्हारे कहाँ पर लात मारेंगे?
बिना तुमसे पूछे

किसे परवाह है तुम्हारे बंद की
न ये स्व स्फूर्त बंद था
न ही किसी जायज मांग पर
ये तो एक परंपरा का निर्वहन है

कल के बंद का कारण बतलाओ?
तुम खुद आज के बंद का कारन जान जाओगे?
कभी बंद से कुछ बदला या बदल पाओगे?
क्या बंद और क्या खुला?

तुम्हारे आवाज पर जिन्होंने बंद किया था
बिना तुम्हे बतलाये खोल दिया?
बुरा मान गये?
मैं तो तुम्हारी सहनशीलता का कायल हूँ

बसें चलीं मां की दवाई ला पाया?
गर्भवती बहन ने क्यों दम तोड़ दिया?
किराना दुकान खुला मिला?
रामू क्यों भूख से रोता रहा?

कितना बेचता, कितना लुटाता
कितना लुटता,क्या घर लाता?
जनरल स्टोर भी नहीं खुला न ही होटल
आज मंगलू को जूठन भी नसीब हुआ?

डर से बंद रहे पाठशाला?
खुली मिली बिन कहे मधुशाला?

वेताल ने झकझोर कर विक्रम को नींद से जगाया
राजन ये क्या?

तुमने देखा जिन लोगों ने बंद किया था?
खोल दिए उन्होंने ही दरवाजे तमाशे के बाद
डर से सड़ न जाये टमाटर और मिठाइयाँ
सावित्री भी सौदा सुलफा लेकर घर चली गई?

वेताल ने कहा राजन
अद्भुत है तुम्हारी ख़ामोशी
और दुधारी तलवार
कौन कटता है, कौन काटता?

एक और त्रासदी

सुनसान सडकों पर अचानक जुट गए लोग
किसी को कोई ऐतराज नहीं हुआ
कौन रोक पाया जानेवाले को?
बंद का असर हो गया बेअसर?

भारत बंद रहा?

लेकिन वो निकल लिये अकेले यात्रा पर
हल्की बारिश की फुहार में भी चल पड़े
संग संग बेटी, पत्नी, बहन, मित्र,सगे सम्बन्धी
नहीं रोक पाए ये यात्रा अनन्त

फिर कैसा बंद?

सन्नाटा भी गूंजता है?
और शोर में भी श्मशान की ख़ामोशी तैरती है?

हर सुबह की शाम होती है?
हर शाम की रात होती है?
हर रात की उजली सुबह होती है?
बंद का असर सूरज की किरणों पर?

कोई भी पार्टी?
कोई भी मुद्दा?
संकट के अवसर पर?
या निदान की खोज में? 

सर्वमान्य हल?
सर्वग्राह्य आज?
सर्वत्याज्य कल?
बंद कल, बंद आज, बंद कल?

 20.09.2012
चित्र फ्लिकर से साभार
श्री नंदकिशोर गुप्ता जी जिन्हे प्रेम से सभी नंदू बाबू कहते हैं
20.09.2012 को अनंत यात्रा पर निकल पड़े . उन्हे मेरी श्रद्धांजली 

20 comments:

  1. कोई भी पार्टी, कोई भी मुद्दा?
    संकट के अवसर पर, या निदान की खोज में?

    विचारणीय .... कोई परिणाम तो आज तक न आया ....

    ReplyDelete
  2. फिर से जाता डाल पर, कंधे से बेताल ।

    बिक्रम के उत्तर सही, फिर भी करे मलाल ।

    फिर भी करे मलाल, साल भर यह दुहराए ।

    कंधे पर बेताल, कभी शाखा लटकाए ।

    होता हल मजदूर, सदा वह हल को तरसे ।

    नेता का क्या मित्र, बंद देखोगे फिर से ।।

    ReplyDelete
  3. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  4. ये बंद वो बंद आखिर इन सब से हासिल क्या हो रहा है ,हर बार आम आदमी ही ठगा जा रहा है.
    कविता के माध्यम से इन आंदोलनों /बंद आदि के उस कड़वे पहलू को सामने रखा है जिस से आम आदमी को दो- चार होना पड़ता है.
    कविता में सामायिक और गहन सोच की अभिव्यक्ति है.

    ReplyDelete
  5. कोई भी पार्टी, कोई भी मुद्दा...जन कल्याण के लिए नही ये तो सिर्फ्र राजनैतिक तवे पर अपनी-अपनी रोटियाँ सेकर्ते हैं....

    ReplyDelete
  6. भारत बंद करना कोई समस्या का हल नही,सिर्फ राजनैतिक रोटी सेकना है ,,,,

    RECENT P0ST ,,,,, फिर मिलने का

    ReplyDelete
  7. कोई भी पार्टी, कोई भी मुद्दा?
    संकट के अवसर पर या निदान की खोज में?
    सर्वमान्य हल?
    सर्वग्राह्य आज?
    सर्वत्याज्य कल?
    बंद कल, बंद आज, बंद कल?

    बेहद सशक्‍त पंक्तियां ...आभार

    ReplyDelete
  8. भारत बंद ...की सोच पर लिखी गई व्यंग्य करती सार्थक रचना

    ReplyDelete
  9. माने सारे भेद खुल गए बंदों के.

    ReplyDelete
  10. ye to aag ko bujhane ke liye petrol dalne jaisa hai
    sundar rachna

    ReplyDelete
  11. गज़ब धुलाई भाईजी, गज़ब|

    ReplyDelete
  12. बंद करो अब ये बंद ,मंद पद रहे जीवन छंद

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजेश कुमार सिंह जी आपका स्नेह और मार्गदर्शन सदैव यूँ ही बना रहे . आभारी

      Delete
  13. कब समाप्त होगी यह बंद की राजनीति....बहुत सटीक रचना..

    ReplyDelete
  14. प्रस्तुति अच्छी लगी ।

    ReplyDelete
  15. आपका यह विक्रम बेताल संवाद हमेशा कुछ नया लेकर आता है।

    ReplyDelete
  16. यह कविता बंद की राजनीति का मुखौटा उतार रही है।

    ReplyDelete
  17. कटु सत्य है.... जिससे आपने अवगत कराया है....

    ReplyDelete