गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Wednesday, 10 July 2013

विक्रम और वेताल 13

आज भी कायनात का वजूद अच्छे लोगों से ही है?


एक लम्बे अंतराल बाद
वेताल की सवारी विक्रम के कंधे पर
जुगनुओं की रोशनी में बियावान रास्ता
वेताल ने कहा
राजन
ज़रा गौर करें

ये आपका विस्तृत साम्राज्य
समृद्धि और खुशहाली
लेकिन
शिकायत प्रति पल क्यूं?
जीवन के प्रत्येक पग पर?

*****
हम मिलते हैं एक दिन में सौ नये लोगों से
इनमे से 97लोग सही और 3 लोग गलत
साबका पड़ता है इन्ही तीन गलत लोगों से
97 सही लोग छुट जाते हैं निभाने के लिये

पुनः अगला दिन वही क्रम फिर मिले सौ लोग
आज भी निर्वहन नये तीन गलत लोगों से ही
छुट गये दुर्भाग्य से शेष 97 सही लोग क्रम से
यही क्रम चल गया मृत्यु तक जाने अनजाने

हमने मान लिया दुनिया बुरे लोगों की ही है?

*****
कभी ऐसा भी होता है मिले हम सौ लोगों से
इनमे से 97 लोग गलत और 3 लोग ही सही
कुछ ऐसा चक्र चला ये तीन सही ही रहे हमारे संग
छुट गये पुरे 97 बुरे लोग आज बिन कहे सौभाग्य से

सोमवार को जो क्रम था वही बना रहा रोज
बस ये वार बदलते बदलते महीने बन गये
महीने बदल गये बरस में पलक झपकते
और न जाने कब बीत गया जीवन देखते देखते

लगा ये दुनियां केवल सज्जनों से भरी है

राजन
आपकी भृकुटी क्यों तन जाती है
मत भुलिये ये संसार सार है

जीवन और लोगों की भेंट का एक ही निश्चित क्रम है?
बदल जाते हैं रास्ते और गिनती का फेर कभी कभी बूझे अनबूझे?
किसी के हिस्से कम तो किसी के हिस्से जियादा पड़ जाते हैं
बस सही गलत का मायने और अंदाज़ जुदा हो जाता है?

कुछ भी अछूता नहीं रह गया है आज इस संक्रामक रोग से
लिंग, वर्ण, जाति, संप्रदाय, रंग, देश, विदेश, हम, आप,साहित्य
शिक्षा, धर्म, गंवार, विद्वान, नेता, अभिनेता, जननी, जनक, और रिश्ते
पिस गये हैं इसी चक्की में चाहे अनचाहे रोज पल पल समाज

राजन
आप विद्वान और न्याय प्रिय हैं
फिर विस्मय किस बात पर

आज भी कायनात का वजूद अच्छे लोगों से ही है?

भले ही हमारी मुलाकात न हो उनसे और जीवन बीत जाये
भटकते भटकते अंधेरे में उजाला खोजते खोजते चोट खाते
चंद लोग बुरे हों या भले मिले हम उनसे धारणा बन जाती है।
मन खिन्न है सवाल का जवाब हर हाल में चाहिये सवाली है खड़ा

*****
कभी कभी सब अच्छे लोगों से ही नित हमारी मुलाकात होती है
किन्तु जैसे ही हम अपना प्रयोजन स्पष्ट करते हैं अचानक?

विक्रम ने सोचा
और वेताल ने ताड़ लिया

लोग बुरे ही हैं तो ये दुनियां कैसे चल रही है ये डूबती क्यों नहीं?
यदि लोग भले हैं तो शोर शराबा थमता क्यों नहीं अँधेरा क्यूँ है?

06 जुलाई 2013
समर्पित मेरी ज़िन्दगी को
और सवाल संग शिकायत भी

17 comments:

  1. भला-बुरा ज्‍यों दिन-रात.

    ReplyDelete
  2. आज भी कायनात का वजूद अच्छे लोगों से ही है?

    ReplyDelete
  3. दोनों से ही कायनात कायम है....

    ReplyDelete
  4. काले से ही सफ़ेद रंग की पहचान है और काले की सफ़ेद से.
    जब तक कायनात है दोनों ही रहेंगे अच्छे भी बुरे भी.
    बुराई हमेशा अच्छाई को निगल लेती है.
    शिकायते/ प्रश्न सब वाजिब हैं लेकिन सटीक उत्तर किस के पास है?

    ReplyDelete
  5. भला-बुरा दोनों का संतुलन ही इस सृष्टि कर्म को सम्भाले हुए है...सत, रज और तमस इन तीनों गुणों के मेल से ही सृष्टि का निर्माण हुआ है...इनसे जो पार हुआ वही जीवन मुक्त है...

    ReplyDelete
  6. बुरों के साथ भी रहना है..
    यही जीवन है !

    ReplyDelete
  7. अच्छे बुरे का ये क्रम चलता रहेगा ... क्योंकि हम अपना रूप बदलते रहते हैं ...

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन जनसंख्या विस्फोट से लड़ता विश्व जनसंख्या दिवस - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. विक्रम और वेताल को आज के ब्लॉग बुलेटिन में शामिल करने के लिए ह्रदय से आभार

      Delete
  9. जीवन और लोगों की भेंट का एक ही निश्चित क्रम है?

    इसमें क्या शक है अक्सर हम उन लोगों से दूर रहने के लिए अभिशप्त होते है जिनका हम साथ चाहते हैं और उनके साथ रहने को विवश होते हैं जिनकी उपस्थिति मात्र से हम असहज हो जाते हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजन आपसे ऐसे ही उत्तर की प्रतीक्षा थी लो मैं चला अगले अंक में फिर मिलूँगा तब तक के लिए दसविदानिया

      Delete
  10. अच्छे और बुरे सब साथ साथ ही चलते हैं यही जीवन है..बहुत बढिया..आभार

    ReplyDelete
  11. "संसार विषवृक्षस्य द्वे फले अमृतोपमे ।
    काव्यामृतरसास्वादन संगतिः सज्जनैः सह "
    इस संसार रुपी विष-वृक्ष में दो ही अमृत-रूपी फल लगे हैं । एक - साहित्य का रसास्वादन और दूसरा - सज्जनों की संगति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह! बहुत बढ़िया!

      Delete
  12. राजन
    आपकी भृकुटी क्यों तन जाती है
    मत भुलिये ये संसार सार है ..........सही है .....!!

    ReplyDelete
  13. बड़ी खूबसूरती से वाद-संवाद को आप शब्द देते हैं..

    ReplyDelete