गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Wednesday, 18 April 2012

उस पार

स्वर्गीय बाबूजी, श्री जीत सिंह 
नदी के तट पर बसा एक गांव
पिता-पुत्र का एकांतिक वास
पुत्र ने चलना सीखा जल पर
दस वर्षों के तपोबल से
उफनती निम्नगा की पार
बिना बेड़ा
सीखा तरंगिणी के पार जाना
जाना कुलंकषा के उस पार जीवन को




पिता ने चवन्नी देकर खेवटिया को
सरिता को नाव से कर दिया पार
और निरर्थक ठहरा दिया
दस वर्षों के तपोबल को

पुत्र ने मुस्कुराकर
संयत भाव से कहा तात्!
आपका कथन मिथ्या कहां?
नाविक का श्रम निःसंदेह
चार आने से कम हो सकता है

आपगा को तैरकर भी
पार उतरा जा सकता है?
किंतु मैने
इन दस वर्षों में
स्व को पहचाना,
अपनी दृष्टि से जाना
जीवन उस पार भी है

निर्झरिणी में नाव डूब भी सकती है
डूबने के डर से
पार उतरा जा सकता है?
आपने कहां और कब सिखलाया?
मैने अब जाना तपोबल से जीना

और बोध हुआ
आशंका, भय,या संभावना से
मुक्त जीवन जीने की कला
आरोपण सिद्धि के लिए
या ध्येय के लिए अर्थ?

मैने सीख लिया और जाना
सलिला के पार जाना

चित्र पिता श्री जीत सिंह
19/09/2007

24 comments:

  1. और बोध हुआ
    आशंका, भय,या संभावना से
    मुक्त जीवन जीने की कला
    आरोपण सिद्धी के लिए
    या ध्येय के लिए अर्थ?
    गहन अर्थपूर्ण भाव... सुन्दर रचना के लिए आभार...

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर बोध जगाती कविता !

    ReplyDelete
  3. अच्छी प्रस्तुति....
    ये रचना पहले भी पोस्ट करी थी आपने....
    शायद कुछ संशोधन किया होगा????

    जो भी हो बहुत पसंद आई...
    सादर.

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,...
    रमाकांत जी,...रचना को कल भी पढ़ा था.....

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    ReplyDelete
  5. श्री संजय कुमार शर्मा की टिप्‍पणी-
    "आपगा को तैरकर भी पार उतरा जा सकता है?" "आपगा को तैरकर ही पार उतरा जा सकता है...!" "डूबने के डर से पार उतरा जा सकता है?" "डूबने के डर से ही पार उतरा जा सकता है...!" "पिता ने चवन्नी देकर खेवटिया को सरिता को नाव से कर दिया पार और निरर्थक ठहरा दिया दस वर्षों के तपोबल को..." "व्यर्थ ही सीखा था मैंने जल पर चलना...सागर तो पैसों से पार किए जा सकते हैं।" आश्चर्यजनक अद्भुत रचना,भाई साहब,आपकी इस शानदार रचना पर साधुवाद आपको,वाह...!माँ सरस्वती की कृपा आप पर सदैव बनी रहे। I m speechless so I think many others like me would be...thank you so much to put a beautiful thought like this among us through your blog....God bless you. Hi,friends, "आप सबका स्वागत है मेरे पेजेज़ "Sanjay Kumar Sharma","प्रेमग्रंथ - संजय कुमार शर्मा" and "ग्राम्यबाला - संजय कुमार शर्मा"...पर।" Visit the paradise of hearts...ever young...ever fresh...ever alive...ever beating...n... 'LIKE' them ...!!! Link Addresses for d pages; "Sanjay Kumar Sharma" https://www.facebook.com/pages/Sanjay-Kumar-Sharma/ 243185802387450 and प्रेमग्रंथ - संजय कुमार शर्मा https://www.facebook.com/pages/%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%AE%E0%A4%97%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%82%E0%A4%A5-%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%9C%E0%A4%AF-%E0%A4%95%E0%A5%81%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%B6%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%BE/157830647632204 and ग्राम्यबाला - संजय कुमार शर्मा https://www.facebook.com/sanjaygramyabala

    ReplyDelete
  6. डॉ. निशा महाराणा की टिप्‍पणी-
    very nice....

    ReplyDelete
  7. अनीता जी की टिप्‍पणी-
    सुंदर बोध कथा पर आधारित सराहनीय रचना !

    ReplyDelete
  8. सरस जी की टिप्‍पणी-
    मैने सीख लिया और जाना नदी के पार जाना स्वयं पर विश्वास की मिसाल है आपकी कविता ...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  9. रश्मिप्रभा जी की टिप्‍पणी-
    निर्झरिणी में नाव डूब भी सकती है डूबने के डर से पार उतरा जा सकता है? आपने कहां और कब सिखलाया? मैने अब जाना तपोबल से जीना और बोध हुआ आशंका, भय या संभावना से मुक्त जीवन जीने की कला आरोपण सिद्धि के लिए या ध्येय के लिए अर्थ? मैने सीख लिया और जाना नदी के पार जाना... bahut badhiya

    ReplyDelete
  10. राहुल सिंह जी की टिप्‍पणी-
    भूमिका बदल सकती है, जीवन तो भवसागर पार ही है.
    पिता-पुत्र के कथन को बदल कर देखें तो?

    ReplyDelete
  11. ललित शर्मा जी की टिप्‍पणी-
    उम्दा अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  12. पूनम जी की टिप्‍पणी-
    मैने सीख लिया और जाना नदी के पार जाना...........sunder bhav

    ReplyDelete
  13. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी की टिप्‍प्‍णी-
    सार्थक पंक्तियाँ रची हैं.....जीवन का सार बताती रचना .....

    ReplyDelete
  14. अरे वाह! बहुत सुन्दर!
    By Smart Indian - स्मार्ट इंडियन

    ReplyDelete
  15. गहन अभिव्यक्ति
    By संगीता स्वरुप ( गीत )

    ReplyDelete
  16. आशंका, भय,या संभावना से मुक्त जीवन जीने की कला आरोपण सिद्धी के लिए या ध्येय के लिए अर्थ? बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,... MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...
    By dheerendra on उस पार

    ReplyDelete
  17. ताज़ी रचना पिता-पुत्र संवाद : क्लिष्ट गरिष्ट पर विशिष्ट

    ReplyDelete
  18. इतनी सुन्दर कविता के लिए बधाई...

    ReplyDelete
  19. gahre bhaav liye hai aapki prastuti, jeewan se hamesha hi hamen kuchh seekhne ko milta hai.

    ReplyDelete