गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 20 September 2013

श्रद्धा

रामा { रमाकांत } का प्रणाम स्वीकारें 

एक कथा का आनंद लीजिये

पुराने समय में लीलागर नदी के तट पर रामा यादव अपने बेटा, बेटी, पत्नि के साथ
निवास करता था पूरा परिवार शिव भक्त था नदी के तट पर विराजित शिव जी की
नित्य सुबह शाम पूजा करता था अचानक एक दिन पत्नि को सांप ने डस लिया
और वह चल बसी रामा ने सोचा शिव की कृपा होगी,शिरोधार्य किया किन्तु बच्चों
की देखभाल में कमी आने लगी बच्चे बीमार पड़ गये और वे भी चल बसे

रामा उद्विग्न हो उठा मन उचट गया दीन दुनियां से लेकिन वक़्त कहाँ रुकता है


रामा मन में सोचने लगा मेरा क्या कसूर मेरी भक्ति भाव में कौन सी कमी रह गई
जो ऐसा हुआ अब वह प्रतिदिन सुबह शाम बिना नांगा सात लाठी शिव लिंग को

मारकर अपना क्रोध जताता रोज गाय बैल को खोलता दूध दुहता, लोगों को बांटता
शाम को सोने के पहले शिव जी को कोंसता, बन गया बिन बनाये रोजमर्रा  का काम,
पागलों की तरह चल पड़ता बिन खाये पिये जंगल को

दिन बीतते गये, मौसम भी बदला, जेठ की दोपहरी ढलने लगी, आसमान में

बादल छाने लगे एक दिन सुबह से ही मौसम खराब होने लगा था जानवर
अनमने से यहाँ वहां जाने लगे रामा जानवरों को चराने नदी के पार रोज की
तरह चला गया, आज घर में चूल्हा भी नहीं जला था, शाम को अचानक
आसमान बादलों से भर गया, शुरू हो गई बारिस उमड़ घुमड़ कर

जल मग्न हो गया जंगल का कोना कोना बिखर गये सभी जानवर अपनी जान

बचाने में और रामा लहुलुहान हो गया इन्हें सकेलने में आज कोई सुध नहीं रह
गई थी किसी काम की थका हारा उफनती नदी को जानवरों संग तैरकर जैसे तैसे
घर पहुंचा, जो बन गई थी बाढ़ का हिस्सा मन खीझ उठा, लगा आज सुबह से ही
कुछ छुटता चला जा रहा है, लेकिन सुध बिसरा गया था कैसे? क्या छुट गया?

घर के बिखरे चीजों को देखते देखते अचानक याद आ गया भुला काम बस क्या था
चल पड़ा, न देखा अँधेरा न परवाह की अड़चन की, उफनती बौराती नदी को तैरकर
पहुंचा शिव मंदिर फिर क्या था, भांजी लाठी और तान तान कर सुबह और शाम का
हिस्सा दिया चौदह लाठी शिव जी के सिर पर झमाझम,
मारते वक़्त कहता जा रहा था
**ले तेरा दिया तेरे को ही दिया **मैंने तेरा क्या बिगाड़ा था

अचानक बिजली की कड़क और कौंध के साथ मृग छाला पहने शिव जी प्रकट हुए

और कहा रामा धन्य है तुम्हारी भक्ति और प्रेम इस बरसात में भी मैं तुम्हे याद रहा,
मांगो क्या चाहिये जो भी, अहा इतने कष्ट में भी यह अनन्य श्रद्धा
अचानक नंग धडंग शिव को मंदिर में देख रामा ने पूछा तुम कौन हो और यहाँ कैसे घर
जाओ बारिस में भींग जाओगे किन्तु उत्तर मिला
मैं शिव जी हूँ, रामा ने कहा अच्छा तो मैं हर हर महादेव हूँ, चलो जाओ अपने घर

शंकर जी ने कहा अरे भोले रामा मैं सचमुच शिव हूँ मैं तुम्हारी भक्ति पर प्रसन्न हूँ

हाँ तो, होगे शिव मैं क्या करूँ और मैं कैसे मानूं की तुम भगवान हो, चलो हो भी तो,

मुझे क्या लेना देना, जाओ अपने घर, खुद के पास पहनने को अंगरखा नहीं और …

भोलेनाथ मुस्कुराकर बोले चलो जो मन चाहे मांग लो मिल जायेगा बिना विलम्ब

रामा ने कहा अच्छा अभी बारिस बंद करो, बारिस बंद हो गई
अब चल पड़ा मांग और पूर्ति का खेल शुरू हुई मांग
घर चलो, शिव जी तुरत पहुंचे रामा को लेकर घर, घर बिखर गया है अभी ठीक करो,
गोठान को ठीकठाक करो, मेरा घर मेरी पत्नि और बच्चों के बिना सुना लगता है,

ये क्या बात मुंह से निकली और पूरी होते गई घर किलकारियों से गूंज गया
रामा मांगता गया और भोले महाराज देते गये रामा और बच्चों को अब ध्यान आया
अरे ये तो सचमुच ही शिव जी हैं पूरा परिवार चरणों में लोट गया
रामा कभी अवाक घर को देखता तो कभी भोले भंडारी को

शायद प्रेम और श्रद्धा लिये शब्द कम पड़ जाते है ये अनुभूति हो?  


रामा { रमाकांत } का प्रणाम स्वीकारें और अड़हा पर कृपा बनाये रखें 
  


चित्र गूगल से साभार

19 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  2. Aabhar hamare blog par bhi apni ray de http://www.hinditechtrick.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक कल शनिवार (21-09-2013) को "एक भीड़ एक पोस्टर और एक देश" (चर्चा मंचःअंक-1375) पर भी होगा!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. चर्चा मंच अंक १३७५ के सभी सदस्यों का आभार आपने कथा को इस योग्य समझा

      Delete
  4. बहुत सुन्दर कथा.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर कथा ... सच कहा है जहां प्रेम हो श्रधा हो ... वहाँ शब्दों से वार्तालाप की जरूरत कहां रह जाती है ...

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  7. वाह ! भगवान तो औघड़ दाता हैं ही..भक्ति करे कोई सूरमा..

    ReplyDelete
  8. are waah bahut acchi kagi kahani ....dil khush ho gaya ....

    ReplyDelete
  9. दिल को बहलाने के लिए ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है

    ReplyDelete
  10. दिल को बहलाने के लिए ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है

    ReplyDelete
  11. भगवान तो भाव के भूखे हैं । "ॐ नमः शिवाय ।"

    ReplyDelete
  12. कथा प्रस्तुति बाँधे रखती है..

    ReplyDelete